26 जनवरी गणतंत्र दिवस पर निबंध हिंदी में 500-1000 शब्दों में – Republic day Essay in hindi

भारत में 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है जिसे एक राष्ट्रीय पर्व का दर्जा दिया गया है सभी जाति,वर्ग, धर्म, समुदाय से जुड़े लोग प्रत्येक वर्ष 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाते हैं। आज के इस लेख में हम मुख्यत: 26 जनवरी गणतंत्र दिवस पर निबंध (Republic day Essay in Hindi) के बारे में बताने वाले हैं।
[2022] 26 जनवरी गणतंत्र दिवस पर निबंध हिंदी में 500-1000 शब्दों में - Republic day Essay in hindi
सभी सरकारी और गैर सरकारी स्कूलों विश्वविद्यालयों तथा कार्यालयों में गणतंत्र दिवस मनाया जाता है स्कूलों में इस दिन बड़े-बड़े कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं जिसमें निबंध प्रतियोगिता, भाषण प्रतियोगिता जैसे कार्यक्रम शामिल होते हैं इसलिए विद्यार्थी गणतंत्र दिवस पर निबंध 500 शब्दों में/गणतंत्र दिवस पर निबंध 1000 शब्दों में हिंदी में की तलाश करते रहते हैं कि उन्हें कहीं से एक बेहतर कंटेंट मिल जाए जिसे वह अपनी प्रतियोगिता में रख सकें।
 
Read more –
 

26 जनवरी गणतंत्र दिवस पर निबंध 500 शब्दों में हिंदी में – Republic day Essay in Hindi

 
भारत में प्रत्येक वर्ष 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस को राष्ट्रीय पर्व के रूप में मनाया जाता है इस दिन भारत का संविधान पहली बार लागू किया गया। इससे पहले भारत में अंग्रेजों द्वारा बनाया गया भारत सरकार अधिनियम कानून लागू था गणतंत्र दिवस के दिन राष्ट्रपति द्वारा लाल किले पर ध्वजारोहण किया जाता है और राष्ट्रपति द्वारा राष्ट्र के नाम एक संदेश दिया जाता है।
 
पहली बार 26 नवंबर 1949 को संविधान समिति द्वारा भारत का संविधान अपनाया गया जिसे बनने में 2 वर्ष 11 माह 18 दिन का समय लगा था और इसके बाद 26 जनवरी 1950 से भारत का संविधान कार्यप्रणाली में लाया गया यानी लागू हुआ। अब आप सोच रहे होंगे कि 26 जनवरी ही तारीख क्यों चुनी गई कोई अन्य तारीख भी तो हो सकती थी जिस दिन हम अपना गणतंत्र दिवस मनाते लेकिन इसके पीछे का भी कारण है सन 1930 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस द्वारा 26 जनवरी को पूर्ण स्वराज्य की घोषणा की थी इसी उपलक्ष में 26 जनवरी को ही गणतंत्र दिवस के रूप में चुना गया और संविधान लागू हुआ।
 
26 जनवरी को भारत की राजधानी दिल्ली में तरह तरह के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं पूरी दिल्ली को मानो दुल्हन की तरह सजाया जाता है लाल किले पर ध्वजारोहण के बाद भारतीय सेनाओं द्वारा विभिन्न प्रकार के करतब दिखाए जाते हैं और परेड निकाली जाती है जिसे देखने के लिए भारत के कोने कोने से लोग ही नहीं बल्कि विदेशों से भी प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति जैसी शख्सियत आते हैं। इस दिन परेड स्थल से राष्ट्रपति का काफिला गुजारा जाता है जिसमें तीनों सेनाओं की सहभागिता होती है और तीनों सेनाओं द्वारा राष्ट्रपति को सैल्यूट किया जाता है।
 
वैसे तो हमारा देश 15 अगस्त 1947 को ही आजाद हो गया था जिसे हम स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाते हैं लेकिन भारत में पूर्ण गणराज्य की घोषणा 26 जनवरी 1950 को ही हुई। भारत की गणतंत्र दिवस को सेलिब्रेट करने के लिए स्कूलों और यूनिवर्सिटीज में गणतंत्र दिवस पर भाषण गणतंत्र दिवस पर निबंध जैसे विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं जिनमें बच्चे परफॉर्म करते हैं और उन्हें मुख्य अतिथियों के द्वारा 26 जनवरी गणतंत्र दिवस पर निबंध बोलने के लिए सम्मानित किया जाता है।
 
इस दिन शिक्षण कार्य पूरी तरीके से बंद रहता है कोचिंग संस्थानों विद्यालयों स्कूलों सरकारी कार्यालयों गैर सरकारी कार्यालयों सभी में गणतंत्र दिवस कार्यक्रम को सेलिब्रेट किया जाता है और लोगों में राष्ट्रप्रेम की भावना को जागृत करने के लिए 26 जनवरी पर भाषण जैसे कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।
भारत को आजाद कराने में न जाने कितने वीर सपूतों और महापुरुषों ने अपने प्राणों की आहुति दे दी तब जाकर कहीं अंग्रेजों ने देश छोड़ा है। इसलिए हम पूरे वर्ष ना सही कम से कम साल में 1 दिन तो अपने महापुरुषों और वीर सपूतों के लिए निकाल कर उन्हें स्मरण कर सकते हैं। 
 
भारत के संविधान को बनाने और उसे अंगीकार करने में डॉ भीमराव अंबेडकर की अहम भूमिका रही इन्होंने विभिन्न राष्ट्रों के संविधान को पढ़ा और उनसे अंगीकार करने योग्य चीजों को  निचोड़ा और भारत का संविधान बनाने में सहायता ली इस प्रकार कुल मिलाकर 2 वर्ष 11 माह 18 दिन की मेहनत के बाद भारत का संविधान बनकर तैयार हुआ जिसे 26 जनवरी 1950 को लागू किया गया।

उपसंहार –

 
ये था गणतंत्र दिवस पर निबंध हिंदी में 500 शब्दों में, मैं करता हूं कि मित्रों आपको यह लेख जरूर पसंद आया होगा अगर आपको इस लेख में सीखने योग्य या जानकारी पूर्ण चीजें दिखी हैं। तो इसे आप अपने सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें जिससे लोगों को भी गणतंत्र दिवस के अधिपत्य के बारे में जानकारी मिल सके। और वह भी गणतंत्र दिवस पर निबंध, Republic day Essay in Hindi 2022 आदि प्रतियोगिताओं में शामिल होकर अपने क्षेत्र में तरक्की कर सकें