World Hindi day 2022 in Hindi – विश्व हिंदी दिवस 2022 थीम

दोस्तों भारत विविधताओं का देश है भारत के हर कोने में अलग-अलग भाषाएं और बोलियां बोली जाती हैं जिनमें से एक भाषा कॉमन है वह हिंदी है। भारत में हिंदी को ना केवल एक भाषा समझा जाता है बल्कि हिंदी को मातृभाषा का दर्जा दिया गया है। 

World Hindi day 2022,विश्व हिंदी दिवस 2022 थीम

World Hindi Day (विश्व हिंदी दिवस) और Hindi day( हिंदी दिवस) दोनों है तो लगभग मिलते जुलते शब्द ही लेकिन अलग-अलग दिन मनाए जाते हैं। आज के इस लेख में हम आप सभी पाठकों को World Hindi day 2022 in hindi- विश्व हिंदी दिवस 2022 थीम के बारे में जानकारी देने वाले हैं।

World Hindi Day 2022 in Hindi

विश्व में हिंदी चौथी सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा है पहले नंबर पर अंग्रेजी भाषा दूसरे नंबर पर मंदारिन और तीसरे नंबर पर स्पैनिश । भारत में हिंदी के स्तर को ऊंचा उठाने और महत्त्व देने के लिए संविधान पारित होने के बाद सन 1947 में कई तत्कालीन कवियों और डॉक्टर राजेंद्र सिंबा के अथक प्रयासों से हिंदी को भारत गणराज्य की एक आधिकारिक भाषा घोषित किया गया। 

Read more –

भारत में हिंदी दिवस 14 सितंबर को मनाया जाता है जिसका उद्देश्य भारत में विशेषकर युवाओं को हिंदी भाषा के महत्व से भलीभांति परिचित कराना और उनके मन में हिंदी भाषा के लिए विशेष दर्जा दिलवाना है। कई लोग हिंदी दिवस को अंतरराष्ट्रीय हिंदी दिवस समझ बैठते हैं जो कि बिल्कुल गलत है।

World Hindi Day यानी अंतरराष्ट्रीय हिंदी दिवस 10 जनवरी को मनाया जाता है पहली बार 10 जनवरी 2006 को पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह द्वारा विश्व हिंदी दिवस का आयोजन किया गया।तब से लेकर हिंदी दिवस को वैश्विक रूप में विश्व हिंदी दिवस को अंतरराष्ट्रीय हिंदी दिवस के रूप में विश्व के कई देशों में मनाया जाने लगा इस दिन 10 जनवरी को सभी देशों में स्थित भारत के दूतावासों में world Hindi day पर कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है और हिंदी भाषी लोगों को आमंत्रित किया जाता है।World Hindi Day 2022 in Hindi के बारे में अधिक जानने के लिए लेख को पूरा पढ़ें।

विश्व हिंदी दिवस 2022 की थीम

विश्व हिंदी दिवस की थीम ना केवल हिंदी भाषा को मातृभाषा से राष्ट्रभाषा और विश्व भाषा बनाने का है बल्कि इसके साथ-साथ विश्व हिंदी दिवस मनाने का उद्देश्य लोगों के मन में हिंदी भाषा के प्रति सम्मान स्थापित करवाना है जिससे कि लोग हिंदी भाषा के महत्व को समझें और जीवन में आत्मसाद करें।